मंगलवार, 6 मार्च 2018

कोशिश# हो लक्ष्य# को छोटा करने या बदलने# की !

कोशिश# हो लक्ष्य# को छोटा करने या बदलने# की !
जब लड़खड़ा जाते हैं लक्ष्य का पीछा करते करते,
एक कोशिश होती है फिर संभलकर चल पड़ने की,
कमियों और कारणों के निराकरण और सुधार से ।
जब नही मिलती सफलता बार बार के प्रयासों से ,
कभी सोचना पड़ता है की कमी है मेरे प्रयासों की,
या फिर नहीं है समर्पण पूरी लगन और क्षमता से ।
हो सकता की हो गया लक्ष्य बड़ा मेरी क्षमताओं से,
ऐसे हाल में कोशिश हो लक्ष्य को जरा छोटा करने की,
या  करें एक और नई शुरुआत लक्ष्य को बदलने से ।

कोई टिप्पणी नहीं:

सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में !

सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में । सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में । मुझे खूब आगे बढ़ना है मुझे कुछ बनना है , शोहरतें और सब...