शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

तब जरुरी# है गुरु# का मार्गदर्शन# !

तब जरुरी# है गुरु# का मार्गदर्शन# ।

कुछ भी कर गुजरने का है दम ।
पर इंतजार का नही है संयम ।
जैसे ही उठाया कोई कदम ।
चाहा झट मिल जाये प्रतिफल ।
जब हक में नही रहता करम ।
असफलता हो जाती असहन ।
टूटने लगता है सपनों का भ्रम ।
मायूसी का छा जाता है तम ।
तब जरुरी है गुरु का मार्गदर्शन ।
जो दूर करे मन का सारा वहम ।
अँधेरे जीवन को कर दे रोशन ।

समस्त पूज्यनीय गुरुओं को समर्पित ।।
जय गुरुदेव ।।।

कोई टिप्पणी नहीं:

सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में !

सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में । सब कुछ छोड़ आया कुछ पाने की आस में । मुझे खूब आगे बढ़ना है मुझे कुछ बनना है , शोहरतें और सब...