बुधवार, 6 दिसंबर 2017

अलाव से गर्मी का पाया सुरूर .


दिन भर की कड़ी मेहनत से थक कर चूर ,
शाम ढलते ही सभी चिंताओं से दूर ,
कर रहें है सब मिलकर सामना भरपूर ,
ठण्ड जो कुछ ज्यादा ही हो रही क्रूर ।
तन पर गर्म कपड़े लिबास नही है प्रचुर ,
जो बेशक फुटपाथ पर रहने को है मजबूर ,
जलाकर अलाव से गर्मी का पाया सुरूर ,
आग की लौ से चेहरे पर सुकूँ का है नूर ।
कहते सुनते रात गुजर रही है बदस्तूर ,
बिना कुछ सोचे की किसका है ये कसूर ,
कभी तो दीप मेहरबाँ होगी किस्मत मगरूर ,
अगली सुबह खुशियों से भरी होगी जरूर ।

3 टिप्‍पणियां:

Kavita Rawat ने कहा…

ठण्ड का बस सबसे ज्यादा इन्हीं गरीबों पर चलता है
मर्मस्पर्शी रचना

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

जी धन्यबाद । आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु ।

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

जी धन्यबाद । आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु ।

आओ संभाल लें रिश्तों को दरकने से पहले !

आओ संभाल  लें  रिश्तों को दरकने से पहले , करें एक पहल नजरों में खटकने से पहले। माना कि कुछ अनबन हो गई हो कभी , कुछ अपने रुसवा ...