शुक्रवार, 26 फ़रवरी 2021

हर वक्त जब यूं #मुस्कुराकर चले जाते हो !

हर वक्त जब यूं #मुस्कुराकर चले जाते हो , 

न जाने कितने दिलों की #उलझने बढ़ाते हो । 


ठहरा भी करो कभी पल दो पल,

गुफ्तगू हो जाये कुछ तो अगर , 

मिल जाये दिल को कोई डगर ,

पता नहीं  दिलों  की सदा को कब समझ पाते हो ।


आवो हवा जमाने कि जो रही है मिल , 

कुछ इस तरह से हो गई है कातिल , 

कि घायल हो रहे है अब तो कई दिल , 

पता नहीं दिलों पर और कितना सितम ढाते हो  ।


माना कि मुस्कुराकर मिलना आदत है ,

गम की दुनिया से छेड़ी इक बगावत है , 

पर ये मुस्कुराहट कितनों की बनी चाहत है , 

पता नहीं ऐसी  दीवानगी को कितनी और बढ़ाते हो । 


हर वक्त जब यूं मुस्कुराकर चले जाते हो , 

न जाने कितने दिलों की उलझने बढ़ाते हो । 

18 टिप्‍पणियां:

अनीता सैनी ने कहा…

जी नमस्ते ,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (२७-०२-२०२१) को 'नर हो न निराश करो मन को' (चर्चा अंक- ३९९०) पर भी होगी।

आप भी सादर आमंत्रित है।
--
अनीता सैनी

अनाम ने कहा…

बहुत ही बढ़िया लिखा है

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय ,मेरी रचना को चर्चा में शामिल करने के लिए एवं बहुमूल्य प्रतिक्रिया देने हेतु बहुत धन्यवाद ।

अनाम ने कहा…

https://deep-007.blogspot.com/2021/02/blog-post_26.html

Onkar ने कहा…

बहुत सुंदर

kuldeep thakur ने कहा…

https://deep-007.blogspot.com/2021/02/blog-post_26.html

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

शानदार कविता

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय ओंकार सर, कुलदीप सर एवं राय सर आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद ।

आलोक सिन्हा ने कहा…

बहुत बहुत सुन्दर रचना

Jyoti khare ने कहा…

वाह
बहुत सुंदर सृजन
बधाई

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय सिन्हा सर एवं खरे सर आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद ।

ज्योति सिंह ने कहा…

वाह बहुत खूब लिखा है, बधाई हो, हार्दिक आभार

RaviKant Soni ने कहा…

बहुत सुंदर शब्दों में दिल की वात जुबां तक आयी है :-)

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

शायद सर , बहुत धन्यवाद आपके बहुमूल्य विचार हेतु ।

Jyoti khare ने कहा…

आग्रह है मेरे ब्लॉग को भी फॉलो करें
आभार

मन की वीणा ने कहा…

बहुत सुंदर सृजन।
मोहक/उम्दा।

कुमार गौरव अजीतेन्दु ने कहा…

Sundar Rachna

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

मन की वीना और गौरव सर आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद ।