बुधवार, 14 जुलाई 2021

यदि हो जाये ऐसी #बगावत !

 


सुबह का पता न शाम का ,

खाने की सुध न आराम का ,

लगातार सर झुकाये बैठे हो ,

#स्क्रीन पर नजर गड़ाये बैठे हो ।


कभी दर्द की शिकायत ,

तो उससे निजात की कवायद ।


एक अलग ही दुनिया बनाये बैठे हो ,

साथ अपनों का गवाये बैठे हो ।


ध्यान जरा अपना हटाकर ,

सर को अपने  ऊपर उठाकर ,

उंगलियों को अपनी विराम दो ,

आंखों को अपनी आराम दो ।


यदि हो जाये ऐसी बगावत ,

तो मिल जाये कुछ राहत ।


अस्तित्व को अपने एक जुबान दो ,

अपने होने का जरा प्रमाण दो ,

बड़ों की बातों को मान दो ,

दीवानगी #मोबाइल को जरा लगाम दो ।

Please visit also

https://www.facebook.com/1524713766/posts/10226150933029531/?app=fbl

13 टिप्‍पणियां:

Meena Bhardwaj ने कहा…

सादर नमस्कार,
आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार (16-07-2021) को "चारु चंद्र की चंचल किरणें" (चर्चा अंक- 4127) पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।
धन्यवाद सहित।

"मीना भारद्वाज"

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय भारद्वाज मेम ,
मेरी रचना की चर्चा शुक्रवार (16-07-2021) को "चारु चंद्र की चंचल किरणें" (चर्चा अंक- 4127) पर शामिल करने के लिए सादर धन्यवाद ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आज कल मोबाइल से कहाँ निजात ?

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

नेक व उचित सलाह

Amrita Tanmay ने कहा…

बहुत ही बढ़िया कहा।

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

संगीता मेम, अमृता मेम एवं शर्मा सर, आपकी बहुमूल्य प्रतिकृया हेतु बहुत धन्यवाद ।

Jyoti khare ने कहा…

बहुत अच्छी कविता

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

खरे सर , आपकी उत्साहवर्धक बहुमूल्य टिप्पणी हेतु बहुत धन्यवाद ।

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर रचना।

विकास नैनवाल 'अंजान' ने कहा…

कभी दर्द की शिकायत ,
तो उससे निजात की कवायद ।

एक अलग ही दुनिया बनाये बैठे हो ,
साथ अपनों का गवाये बैठे हो ।

सुन्दर रचना.....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सामयिक रचना …
मोबाइल ने बहुत कुछ छीना है हम सब से और बच्चों से …
हम समझ कर भी नहि समझते और बच्चे तो बच्चे हैं … मेरे ब्लॉग पर आने का बहुत आभार …

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

विकास सर,दिगंबर सर एवं अनुराधा मेम, ब्लॉग में आने और आपकी बहुमूल्य प्रतिकृया हेतु बहुत धन्यवाद ।

MANOJ KAYAL ने कहा…

आलेख