फ़ॉलोअर

शनिवार, 30 जुलाई 2022

यूं ही #दिल चुराने वाले !

इमेज गूगल साभार 
#मासूम #अदाओं से,

यूं ही दिल चुराने वाले ,

कभी करते  बैचेन हो ,

तो कभी बनते #उम्मीदों के उजाले ।

 

चाहत किसे नहीं  ,

बन जाये अपना कोई ,

मिल जाये सुकून दिलों का

और नींद रातों की चुरा ले ।

 

जतन पर जतन करते हैं ,

हर राह उनकी चुनते हैं ,  

की कभी तो हो जायें,

उनकी नजरों के हवाले ।

 

बहुत हुआ अब ,

काश कह दूँ सब अब  ,

पर सामने होते है वे जब,

खुलते नहीं लवों के ताले ।

 

चाहत का क्या है ,

हो सकता एक तरफा है ,

जरूरी  नहीं उधर भी यही रजा है ,

फिर भी रखे हैं  दामन उम्मीद का संभाले ।

 

मासूम अदाओं से अपनी,

यूं ही दिलों को चुराने वाले ,

कभी करते बैचेन ,

तो कभी  बनते उम्मीदों के उजाले ।

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज रविवार (31-07-2022) को   "सावन की तीज का त्यौहार"   (चर्चा अंक--4507)    पर भी होगी।
    --
    कृपया लिंकों का अवलोकन करें और सकारात्मक टिप्पणी भी दें।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय मयंक सर,
    इस रचना की चर्चा आज रविवार (31-07-2022) को "सावन की तीज का त्यौहार" (चर्चा अंक--4507) पर करने के लिए बहुत धन्यवाद एवम आभार ।
    सादर ।
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. भावपूर्ण सुंदर सराहनीय रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  4. आदरणीय जिज्ञासा मेम एवम वोकल बाबा , आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद एवम आभार ।
    सादर ।

    जवाब देंहटाएं
  5. आदरणीय अनामिका मेम , आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद एवम आभार ।
    सादर ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मन में डोलते भावों को सुंदर शब्दों को पिरोती खूबसूरत रचना

    जवाब देंहटाएं
  7. आदरणीय संजय सर , आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद एवम आभार ।
    सादर ।

    जवाब देंहटाएं

Clickhere to comment in hindi

चलूं जहां मैं #पांव पांव ।

वो अपनी गली और अपना गांव । चलूं  जहां  मैं #पांव पांव । गुजरूं मैं गली से तो धूल लगे , गर्मी में चटक दोऊ पैर जले , बारिश के कीचड़ में सने पा...