शनिवार, 15 जनवरी 2022

#निहारता हुं #आसमान को !

इमेज गूगल साभार


निहारता हुं आसमान को ,

सूर्य तारे और चांद को , 

दिन रात और शाम को ,

कभी छोड़ अपने काम को ।


उड़ते पंछी देते है पर ,

खुशियों की उड़ान को ,

चांद सूरज देते हैं कर ,

रोशन मेरे जहान को ।


सर उठाकर सीखा है जीना ,

देख नीले आसमान को ,

न रुकने का लिया सबक,

देख अस्त और उदयमान को।


मिले सोच को नया आयाम ,

और मन पाये आराम को ,

राहत और सुकून मिले ,

बेचैन मन और ध्यान को ।


कभी छोड़ अपने काम को ,

दिन रात या दीप शाम को ,

सूर्य तारे या शाम को ,

निहार लूं आसमान को ।

15 टिप्‍पणियां:

RaviKant Soni ने कहा…

अतिसुन्दर :-)

Kamini Sinha ने कहा…

सादर नमस्कार ,

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-1-22) को पुस्तकों का अवसाद " (चर्चा अंक-4311)पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
--
कामिनी सिन्हा

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय रवि सर,
आपकी सुन्दर सी प्रतिक्रिया हेतु सादर धन्यवाद ।

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय कामिनी मेम ,
मेरी इस प्रविष्टि् की चर्चा रविवार को पुस्तकों का अवसाद " (चर्चा अंक-4311) पर शामिल करने के लिए सादर धन्यवाद ।

मन की वीणा ने कहा…

बहुत सुंदर भाव सृजन।

Marmagya - know the inner self ने कहा…

उड़ते पंछी देते है पर ,
खुशियों की उड़ान को ,
चांद सूरज देते हैं कर ,
रोशन मेरे जहान को ।
बहुत सुंदर पंक्तियाँ।
सुंदर भावाभिव्यक्ति!--ब्रजेंद्रनाथ

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय कोठारी मेम एवं बृजेंद्रनाथ सर प्रोत्साहन हेतु की गई आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद । सादर ।

Meena Bhardwaj ने कहा…

सर उठाकर सीखा है जीना ,
देख नीले आसमान को ,
न रुकने का लिया सबक,
देख अस्त और उदयमान को।
अति सुन्दर भावाभिव्यक्ति ।

Jigyasa Singh ने कहा…

मिले सोच को नया आयाम ,

और मन पाये आराम को ,

राहत और सुकून मिले ,

बेचैन मन और ध्यान को ।...जिंदगी में सबसे जरूरी बात..
सुंदर सराहनीय सृजन ।

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय भारद्वाज मेम एवं सिंग मेम प्रोत्साहन हेतु की गई आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद । सादर ।

Bharti Das ने कहा…

बहुत सुंदर सृजन

अनीता सैनी ने कहा…

वाह!कल कल झरने सा बहता लाज़वाब सृजन।
मन मुग्ध हो गया।
सादर

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय भारती एवं सैनी मेम प्रोत्साहन हेतु की गई आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद । सादर ।

Manisha Goswami ने कहा…

बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति

दीपक कुमार भानरे ने कहा…

आदरणीय मनीषा मेम प्रोत्साहन हेतु की गई आपकी सुन्दर प्रतिक्रिया हेतु बहुत धन्यवाद । सादर